ब्रेकिंग न्यूज़
देश विदेश प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़

चीन बना रहा सुपर ह्यूमन:52 देशों की 80 लाख गर्भवती महिलाओं के डेटा पर चल रही रिसर्च, अमेरिका को डर- अब नई बीमारी फैलाएगा चीन

बीजिंग

दुनिया में अपना वर्चस्व कायम करने के लिए चीन खतरनाक प्रयोगों में जुटा रहता है। कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर दुनिया भर की जांच एजेंसियों की निगाह में आ चुका चीन अब सुपरह्यूमन प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है। इसके लिए वह 52 देशों की 80 लाख से ज्यादा गर्भवती महिलाओं के जेनेटिक डेटा का चोरी-छिपे अध्ययन कर रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि चीन की सेना (पीएलए) ने इस काम में चीनी कंपनी बीजीआई की मदद ली है। यह कंपनी दुनियाभर में गर्भवती महिलाओं की प्रसव पूर्ण जांच से जुड़ी हुई है। इस जांच के बहाने बीजीआई ग्रुप ने बड़ी संख्या में गर्भवतियों का जीन डेटा एकत्र कर लिया है।

बारीकी से की जा रही स्टडी
इसे निफ्टी (नॉन इन्वेसिव फैटल ट्रिजोमी) डेटा के तौर पर जाना जाता है। इसमें महिला की उम्र, वजन, लंबाई और जन्म स्थान की जानकारी होती है। ऐसे ही कुछ तथ्यों के आधार पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिए ऐसे गुणों का पता लगाया जा रहा है, जिनसे भविष्य में पैदा होने वाली आबादी के शारीरिक गुणों में बदलाव किया जा सके।

बाइडेन को मार्च में ही मिल गई थी चेतावनी
बाइडेन प्रशासन के सलाहकारों ने मार्च में चीन की इस तैयारी की चेतावनी दी थी। अमेरिकी विशेषज्ञ चिंतित हैं कि यह प्रयोग सफल रहा तो दुनिया भर की फॉर्मा कंपनियां चीन से जुड़ेंगी। इससे बाद चीन इन कंपनियों पर हावी होकर षड्यंत्र कर सकता है। उन्होंने आशंका जताई कि इससे चीन आनुवंशिक रूप से उन्नत महाबली सैनिक तैयार करेगा।

कंपनियों को मजबूर कर सकता है चीन
अमेरिका को बड़ा डर यह भी है कि चीन इस तकनीक के जरिए रोग पैदा करने वाले जीवाणु, विषाणु विकसित कर गंभीर बीमारियां फैला सकता है। पूर्व अमेरिकी काउंटर इंटेलिजेंस ऑफिसर अन्ना पुगलिसी कहती हैं कि चीन अपने यहां काम करने वाली कंपनियों को राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर सहयोग के लिए मजबूर कर सकता है।

भारत के लिए अहम, क्योंकि सीमा पर तैनात सैनिकों को प्रयोग से जोड़ा
इस डीएनए डेटा विश्लेषण के आधार पर चीनी सेना और बीजीआई ग्रुप साथ मिलकर सैनिकों के जीन में बदलाव कर उन्हें गंभीर बीमारियों से सुरक्षित कर रहे हैं। माना जा रहा है कि इससे सैनिकों को ज्यादा ऊंचाई वाले मोर्चों पर बीमारी और सुनने की क्षमता में कमी संबंधी बीमारियों से छुटकारा मिल सकता है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक पिछले सालभर से भारत-चीन सीमा पर तैनात ज्यादातर चीनी सैनिक बीमार पड़े हैं। इसलिए प्रयोग में इन सैनिकों को शामिल किया गया। अगर चीन प्रयोग में सफल हो जाता है तो उसके सैनिक ज्यादा समय तक ऊंचाई वाले इलाकों में तैनात रह सकेंगे।

संबंधित पोस्ट

देश सर्दियों में कोरोना बदलेगा स्वरूप, संक्रमण के साथ हो सकती हैं ये बीमारियां

Khabar 30 din

वन विभाग की टीम पर हमला, 3 कर्मचारी घायल:सागवान की लकड़ी चोरी कर रहे बदमाशों ने गोफन से किया हमला, 1 गिरफ्तार 8 फरार

Khabar 30 din

जम्मू-कश्मीर में DDC इलेक्शन की काउंटिंग:फारूक-महबूबा अलायंस को लीड, 62 सीटों पर आगे, 2 जीतीं; भाजपा को 48 सीटों पर बढ़त

Khabar 30 din

इतिहास में आज:61 साल पहले बना दूरदर्शन, भारत रत्न विश्वेश्वरैया का जन्मदिन जिसे हम इंजीनियर्स डे के तौर पर मनाते हैं

Khabar 30 din

पर्सनल लॉ को खतरा? तलाक के लिए एक कानून की मांग पर SC भी सतर्क, कहा- मुश्किल हो जाएगी

Khabar 30 Din

फोन टैपिंग मामला: सचिन पायलट के मीडिया मैनेजर और एक पत्रकार के खिलाफ FIR दर्ज

Khabar 30 din