ब्रेकिंग न्यूज़
कारोबार कृषि ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति

बीपीसीएल को बेचने के लिए बड़े बदलाव की तैयारी:निजीकरण वाली सरकारी तेल कंपनियों में 100% एफडीआई का प्रस्ताव तैयार, वाणिज्य मंत्रालय ने मांगे सुझाव

नई दिल्ली

केंद्र सरकार कई सरकारी गैस एंड ऑयल कंपनियों के विनिवेश की योजना बना रही है। लेकिन प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) से जुड़े नियम आड़े आ रहे हैं। इस समस्या को दूर करने के लिए वाणिज्य और इंडस्ट्री मंत्रालय ने सरकारी गैस एंड ऑयल कंपनियों में 100% एफडीआई की मंजूरी देने के लिए प्रस्ताव तैयार किया है। मंत्रालय ने ड्राफ्ट कैबिनेट नोट पर संबंधित मंत्रालयों से सुझाव मांगे हैं। सूत्रों ने यह जानकारी दी है।

मंजूरी मिली तो बीपीसीएल के निजीकरण में मदद मिलेगी

सूत्रों के मुताबिक, यदि इस प्रस्ताव को केंद्रीय कैबिनेट की मंजूरी मिलती है तो भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड यानी बीपीसीएल के निजीकरण में मदद मिलेगी। सरकार बीपीसीएल का निजीकरण करना चाहती है। इसके साथ ही सरकार कंपनी में से अपनी पूरी 52.98% हिस्सेदारी बेचना चाहती है। ड्राफ्ट नोट के हवाले से सूत्रों का कहना है कि पेट्रोलियम और नेचुरल गैस सेक्टर के लिए एफडीआई पॉलिसी में नया क्लॉज जोड़ा जाएगा। प्रस्ताव के मुताबिक, जिन सरकारी कंपनियों के विनिवेश के लिए सरकार ने सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है, उनमें ऑटोमैटिक रूट से 100% तक एफडीआई को मंजूरी होगी।

बीपीसीएल को खरीदने के लिए 3 ऑफर मिले

BPCL को खरीदने के लिए देश-विदेश की तीन कंपनियों ने एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट यानी EoI जमा की है। इसमें वेदांता ग्रुप और दो विदेशी कंपनियां शामिल हैं। विदेशी कंपनियों में अपोलो ग्लोबल मैनेजमेंट और आई स्क्वायर्ड कैपिटल आर्म शामिल हैं। सभी मंत्रालयों के सुझाव मिलने के बाद वाणिज्य मंत्रालय इस प्रस्ताव को केंद्रीय कैबिनेट से मंजूरी के लिए पेश करेगा।

अभी 49% एफडीआई की अनुमति

मौजूदा समय में सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम रिफाइनिंग कंपनियों में ऑटोमैटिक रूट से 49% एफडीआई की अनुमति है। इस नियम के कारण अभी कोई भी विदेशी कंपनी BPCL में 49% से ज्यादा हिस्सेदारी नहीं खरीद सकती है। आपको बता दें कि डिपार्टमेंट ऑफ इन्वेस्टमेंट एंड पब्लिक असेट मैनेजमेंट (DIPAM) ने पेट्रोलियम एंड नेचुरल गैस सेक्टर की केंद्र सरकार की कंपनियों में 100% एफडीआई को मंजूरी देने की सिफारिश की थी।

मार्च 2022 तक हो सकता है BPCL का निजीकरण

हाल ही में कंपनी के टॉप अधिकारियों के हवाले से एक रिपोर्ट में कहा गया था कि चालू वित्त वर्ष के अंत तक यानी मार्च 2022 तक BPCL का निजीकरण हो सकता है। हालांकि, यह सबकुछ कोविड-19 महामारी पर निर्भर करेगा। यदि कोविड के कारण प्रक्रिया पर असर पड़ता है तो निजीकरण में देरी हो सकती है। हाल ही में सरकार ने संभावित खरीदारों को BPCL के डाटा का एक्सेस दिया है।

चालू वित्त वर्ष में 1.75 लाख करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य

केंद्र सरकार ने चालू वित्त वर्ष यानी वित्त वर्ष 2021-22 में विनिवेश के जरिए 1.75 लाख करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य तय किया है। इस लक्ष्य को पूरा करने में BPCL, एयर इंडिया का निजीकरण और लाइफ इंश्योरेंस ऑफ इंडिया (LIC) अहम भूमिका निभाएंगे।

संबंधित पोस्ट

हाथरस गैंगरेप: अलीगढ़ के अस्पताल की एमएलसी रिपोर्ट पुलिस के रेप न होने के दावे के उलट है

Khabar 30 din

कोरोना के दौर में संसद का पहला सत्र:एनडीए के हरिवंश राज्यसभा के उपसभापति चुने गए; पहली बार लोकसभा के सदस्यों ने राज्यसभा में बैठकर कार्यवाही में हिस्सा लिया

Khabar 30 din

CG के 26 जिलों में बढ़ा लॉकडाउन:सुकमा और बीजापुर में 1 जून तो कवर्धा, दंतेवाड़ा, महासमुंद में 31 मई तक सब बंद; दुकानें खुलेंगी, लेकिन पान-सिगरेट, चाट-समोसा रहेगा बैन

Khabar 30 din

किसानों संगठनों ने खारिज किया सरकार का बिल को होल्ड कर कमेटी बनाने का प्रस्ताव

Khabar 30 din

आलोचना के बीच सेंट्रल विस्टा निर्माण स्थल की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी पर प्रतिबंध

Khabar 30 din

कांग्रेस में सिर फुटौव्वल के बीच बीजेपी की मिशन 2024 शुरू, 120 दिनों में जेपी नड्डा करेंगे हर राज्य का दौरा

Khabar 30 Din