ब्रेकिंग न्यूज़
अन्य खेल छत्तीसगढ़ प्रदेश बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़

एवरेस्ट पर छत्तीसगढ़ की नैना सिंह धाकड़:दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटी पर लहराया तिरंगा

जगदलपुर

छत्तीसगढ़ के बस्तर की बेटी नैना सिंह धाकड़ ने दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटी (8848.86 मीटर) एवरेस्ट और चौथी सबसे ऊंची चोटी लोत्से (8516 मीटर) फतह कर ली है। यह उपलब्धि हासिल करने वाली नैना प्रदेश की पहली महिला बन गई हैं। खास बात यह है कि अत्यधिक थकान के चलते बीमार होने के बावजूद उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। फिलहाल उनकी हालत ठीक है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस उपलब्धि के लिए उन्हें बधाई दी है।

नैना ने 1 जून को यह उपलब्धि हासिल की और एवरेस्ट पर तिरंगा फहराया।
नैना ने 1 जून को यह उपलब्धि हासिल की और एवरेस्ट पर तिरंगा फहराया।

एवरेस्ट से दिया बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

जगदलपुर मुख्यालय से करीब 10 किमी दूर एक्टागुड़ा गांव की रहने वाली नैना सिंह करीब 10 साल से पर्वतारोहण में सक्रिय हैं। उन्होंने 1 जून को यह उपलब्धि हासिल की और एवरेस्ट पर तिरंगा फहरा दिया। इस दौरान उन्होंने सबसे ऊंची पर्वत चोटी से दुनिया को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश भी दिया। हालांकि उन्हें मंगलवार सुबह ही अपना अभियान पूरा कर लेना था, लेकिन तबीयत खराब होने के चलते इसमें थोड़ी देर हुई।

जगदलपुर मुख्यालय से करीब 10 किमी दूर एक्टागुड़ा गांव की रहने वाली नैना सिंह करीब 10 साल से पर्वतारोहण में सक्रिय हैं।
जगदलपुर मुख्यालय से करीब 10 किमी दूर एक्टागुड़ा गांव की रहने वाली नैना सिंह करीब 10 साल से पर्वतारोहण में सक्रिय हैं।

तबीयत बिगड़ी तो पर्वत पर फंसी, रेस्क्यू कर लाया गया नीचे

नैना को अपना अभियान पूरा कर लौट आना था, लेकिन अत्यधिक थकान के चलते वह बीमार हो गईं। इसकी जानकारी मिलने के बाद नेपाल के एक्सपर्ट शेरपा की मदद ली गई। वह पर्वत पर ऊपर चढ़े और शाम करीब 6 बजे नैना को रेस्क्यू कर कैंप-4 तक लेकर आए। फिलहाल नैना की हालत खतरे से बाहर है। नैना की इस उपलब्धि पर हर कोई खुश है। सरकार के साथ उनके दोस्तों और चाहने वालों ने भी बधाई दी है।

शाम करीब 6 बजे नैना को रेस्क्यू कर कैंप-4 तक लेकर आए। फिलहाल नैना की हालत खतरे से बाहर है।
शाम करीब 6 बजे नैना को रेस्क्यू कर कैंप-4 तक लेकर आए। फिलहाल नैना की हालत खतरे से बाहर है।

खुद हारीं, लेकिन खेल भावना से जीत गई बेटियां

नैना की इस जीत में भी बड़ा हाथ प्रदेश की एक अन्य बेटी का भी है। जो खुद तो इस ऊंचाई की लड़ाई में पिछड़ गई, लेकिन उनकी खेल भावना ने बेटियों को जीत दिला दी। प्रदेश की एक और पर्वतारोही याशी जैन भी एवरेस्ट फतह करने के लिए चढ़ी थीं, लेकिन चोटी तक पहुंचते हुए मौसम खराब होने के चलते उन्हें काठमांडू लौटना पड़ा। वहां से रायपुर आने वाली थीं कि दोपहर तक नैना की कोई खबर नहीं मिलने पर परेशान हो गईं।

नैना की इस जीत में भी बड़ा हाथ प्रदेश की एक अन्य बेटी याशी का भी है। जो खुद तो इस ऊंचाई की लड़ाई में पिछड़ गई, लेकिन उनकी खेल भावना ने बेटियों को जीत दिला दी।
नैना की इस जीत में भी बड़ा हाथ प्रदेश की एक अन्य बेटी याशी का भी है। जो खुद तो इस ऊंचाई की लड़ाई में पिछड़ गई, लेकिन उनकी खेल भावना ने बेटियों को जीत दिला दी।

नैना की तबीयत खराब होने का पता चला तो रेस्क्यू कराया

करीब दोपहर 2 बजे याशी को पता चला कि नैना ज्यादा थकान के कारण बीमार हो गई हैं। ऐसे मे याशी ने परिजनों और प्रशासन से संपर्क साधकर नैना को सकुशल नीचे लाने का प्रयास शुरू किया। जगदलपुर कलेक्टर रजत बंसल ने नेपाल स्थित इंडियन ऐंबैसी से बात की और नैना के लिए रेस्क्यू आपरेशन शुरू हो गया। इसके बाद नैना को सकुशल बचाया जा सका। अब नैना नीचे आने की तैयारी कर रही हैं।

CM बघेल ने कहा- छत्तीसगढ़ के लिए गौरव की बात

नैना सिंह धाकड़ की इस उपलब्धि की मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सराहना की है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की गौरव, बस्तर की बेटी पर्वतारोही नैना सिंह धाकड़ द्वारा विश्व की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट फतह करने पर उन्हें बधाई और शुभकामनाएं। उन्होंने नैना के उज्जवल भविष्य की कामना की। साथ ही कहा कि नैना ने अपने दृढ़ संकल्प, इच्छाशक्ति तथा अदम्य साहस से यह कर दिखाया है।

संबंधित पोस्ट

छत्तीसगढ़ में सुधरते दिखे हालात:प्रदेश में कोरोना के 12,239 नए मरीज मिले, अब केवल दो जिलों में ही हजार के पार संक्रमित; स्वास्थ्य मंत्री बोले- युद्ध अभी बाकी है

Khabar 30 din

बिहार: BJP सांसद बोले- ड्राइवर नहीं होने के कारण खड़ी हैं एंबुलेंस, तो ड्राइवरों की टीम लेकर पहुंचे पप्पू यादव

Khabar 30 din

कोरोना दुनिया में:अमेरिका में 24 घंटे में एक लाख नए केस, स्पेन में लॉकडाउन के विरोध में हिंसा भड़की

Khabar 30 Din

छत्तीसगढ़ में जारी हो रहे गलत डेथ सर्टिफिकेट:विपक्ष का दावा

Khabar 30 din

दंतेवाड़ा में राज्य स्थापना के मौके पर 27 नक्सलियों ने किया सरेंडर; 5 महीने में 177 ने छोड़ी हिंसा, अब जी रहे आम जिंदगी

Khabar 30 Din

पुलिस की कार्रवाई:रायपुर में मकान में लगे ताले का स्क्रू खोलकर लाखों की चोरी; 4 नाबालिग पकड़े गए

Khabar 30 Din