ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़ मध्यप्रदेश

मॉल से छलांग लगाने का मामला:एसआई कुर्सी पर बैठकर बयान लेने लगीं तो चीखी साेनिया, बोली- कुर्सी पर पति शुभम बैठे हैं आप उनकी गोद में कैसे बैठ गई, वहां से उठो

इंदौर
डॉक्टरों के मुताबिक सोनिया को ठीक होने में 3-4 माह लग सकते हैं।
  • उज्जैन की चिमनगंज पुलिस भी आई युवती का बयान लेने, युवती बोली इंसाफ चाहिए, मैं भी पति के साथ जाना चाहती थी, मुझे क्यों बचाया
  • शुभम और साेनिया की मुलाकात करीब 4 साल पहले आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज के पास हुई थी, यहां शुभम का काम चल रहा था

उज्जैन में सी 21 मॉल से कूदी एमबीबीएस की छात्रा सोनिया खंडेलवाल ने आखिरकार शनिवार रात को पुलिस को अपने बयान दर्ज करवाए। जब उससे बयान लेने के लिए पहुंचीं महिला एसआई कुर्सी पर बैठीं तो अचानक सोनिया चीख उठी। बोली- मेरा पति शुभम जिंदा है। अस्पताल की इसी कुर्सी पर बैठकर मेरी केयर कर रहा है। तुम उसकी गोद में कैसे बैठ गई। वहां से उठो। बाद में सोनिया ने उज्जैन और विजय नगर पुलिस को बयान दर्ज करवाए कि उसके पति को प्रताड़ित करने वाले इंजीनियरों को फांसी पर चढ़ा दो। उन्हें कड़ी से कड़ी सजा दी जाए। उधर, डॉक्टरों के मुताबिक उसकी हालत अभी भी गंभीर है। उसे ठीक होने में तीन-चार महीने का वक्त लग सकता है।

साेनिया के दोनों पैर में गंभीर चोट आई है।
साेनिया के दोनों पैर में गंभीर चोट आई है।

विजयनगर टीआई तहजीब काजी के अनुसार, सोनिया पति शुभम खंडेलवाल के शनिवार को बयान लिए गए। एमवायएच के सर्जिकल आईसीयू में बयान लेने के लिए जब एसआई प्रियंका शर्मा पहुंचीं तो सोनिया उसे घूरने लगी। प्रियंका कुर्सी पर बैठी तो सोनिया उसे देखती ही रही। फिर चिल्लाकर बोली कि आप मेरे पति शुभम की गोद में कैसे बैठ गई। उठो वहां से। मेरा पति वहां बैठकर मेरी केयर कर रहा है। यह सुनकर प्रियंका चौंकी। उसने बाहर से सिपाही बुलाया। फिर उसके सामने बयान लिए। युवती से बयान लेने के लिए उज्जैन के चिंतामण थाने की पुलिस भी इंदौर पहुंची। उन्होंने भी सोनिया से बात की।

युवती को छलांग लगाता देखकर गार्ड ने दौड़कर बचाने की कोशिश की।
युवती को छलांग लगाता देखकर गार्ड ने दौड़कर बचाने की कोशिश की।

ऐसे हुई थी मुलाकात
परिचितों ने बताया कि शुभम निगम में ठेकेदारी करता था। करीब 4 साल पहले निगम का एक काम वह आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज के पास करवा रहा था। रोज के आने-जाने के दौरान उसकी फरीदाबाद की रहने वाली साेनिया से मुलाकात हुई। बातों-बातों में पता चला कि वह यहां डॉक्टरी की पढ़ाई करने आई है। एमबीबीएस करते हुए शुभम और साेनिया काफी करीब आ गए। दोनों काफी सक्षम परिवार से थे, लेकिन कास्ट अलग होने से परिजन शादी को लेकर थोड़े सहज नहीं दिख रहे थे। इस पर दोनों ने मंदिर में शादी करने का फैसला किया। दोस्तों और परिचितों की मौजूदगी में 28 अगस्त को उज्जैन स्थित चिंतामन मंदिर में सादे समारोह में शादी की। इसके बाद शुभम साेनिया को लेकर घर पहुंचा, जहां बिना किसी गिले-सिकवे के उसके परिवार ने बहू को खुशी-खुशी गृह प्रवेश करवाया। इसके बाद साेनिया के परिजन भी शुभम को अपनाते हुए बेटी और दामाद से मिलने उज्जैन आए थे।

युवती के सिर और पैर में गंभीर चोट आई है।
युवती के सिर और पैर में गंभीर चोट आई है।

ना नया काम दे रहे थे, ना ही पुराना पेमेंट क्लियर कर रहे थे

परिचित के अनुसार, शुभम निगम के इंजीनियरों की प्रताड़ना से काफी परेशान था। उन लोगों ने उसके पुराने पेमेंट तो अटका ही रखे थे, ऊपर से उसे दूसरा काम भी नहीं दे रहे थे। वह टेंडर डालता तो उसके टेंडर को आगे ही नहीं बढ़ाते थे। इन सब बातों को लेकर वह काफी परेशान हो चुका था। शायद इसी से तंग आकर उसने बुधवार रात को जहर खा लिया था। बड़नगर से लौटते समय उसकी कार का एक्सीडेंट हो गया था। शुभम की मौत के बाद पत्नी साेनिया को उसके माता-पिता उज्जैन से अपने साथ फरीदाबाद लेकर जाने वाले थे। वे उज्जैन से लौटकर इंदौर में सरवटे बस स्टैंड क्षेत्र में एक होटल में रुके थे। उनकी दोपहर में फ्लाइट थी। सुबह वे होटल से निकलने ही वाले थे कि साेनिया ने कहा कि वह जूस पीकर आती है। इसके बाद वह नहीं लौटी। कई कॉल करने के बाद उन्हें लगा कि वह एयरपोर्ट सीधे पहुंचेगी, इसलिए वे होटल से एयरपोर्ट के लिए निकल गए। लेकिन साेनिया होटल से निकलकर सीधे सी -21 मॉल पहुंची और तीसरी मंजिल से छलांग लगा दी।

सलीम खान, विशाल और एक अन्य साथी के साथ युवती को अस्पताल लेकर आए थे।
सलीम खान, विशाल और एक अन्य साथी के साथ युवती को अस्पताल लेकर आए थे।

मेरा पति इतना प्रताड़ित था कि कह नहीं सकती
सोनिया ने बताया कि हमारी शादी 15 दिन पहले घरवालों की मर्जी से हुई है। हम काफी खुश थे, लेकिन उज्जैन के इंजीनियरों ने मेरे घर को नर्क में बदल दिया था। उन्होंने मेरे पति को इतना प्रताड़ित किया कि वह रातभर सो नहीं पाता था। वह डरने लगा था। मुझे निगम के इंजीनियरों की प्रताड़ना के बारे में बताता था। वे उसे कैसे प्रताड़ित करते थे यह मैं भी अभी नहीं बता सकती, लेकिन उन्होंने मेरे पति की जान ले ली। उन्हें तो फांसी पर चढ़ा देना चाहिए। आप तो उनके खिलाफ कार्रवाई करो। गिरफ्तार करो और सजा दे दो। उन्होंने मेरे हंसते-खेलते परिवार को तबाह कर दिया। हमने किसी का कुछ नहीं बिगाड़ा, लेकिन उन्होंने मेरा पूरा परिवार तबाह कर दिया।

28 अगस्त को दोनों ने शादी की थी।
28 अगस्त को दोनों ने शादी की थी।

मुझे क्यों बचाया-मा और शुभम आ जाओ
सोनिया ने कहा कि वह जान देने के लिए ही कूदी थी, लेकिन उसे क्यों बचाया। वह मरना चाहती है। पति के साथ जाना चाहती है। वह बार-बार अपनी मां और शुभम को याद करती है। उन्हें पुकारती है। उसके दोनों पैरों में प्लास्टर चढ़ा हुआ है। वह दर्द से लगातार कराह रही है।

इलाज तो एमवायएच में होगा
टीआई तहजीब काजी ने सोनिया के पिता सुबीर कुमार को कहा कि उसके ठीक होने में अभी वक्त लगेगा, यदि वे चाहें तो उसे विजयनगर के किसी भी निजी अस्पताल में भर्ती करवा सकते हैं। उसका खर्च थाने वाले उठा लेंगे। इस पर पिता ने कहा कि उनकी स्थिति इतनी ठीक नहीं है, लेकिन एमवायएच में उसे अच्छा इलाज मिल रहा है। इसलिए वे अभी वहीं रखना चाहते हैं।

संबंधित पोस्ट

पेंड्रा में हैवानियत:लिव इन में रह रहे युवक ने युवती की हत्या कर दी, गर्भ में पल रहे शिशु की भी मौत, 16 को होनी थी डिलीवरी

Khabar 30 din

अपने देश की जनसंख्‍या से ज्‍यादा किए कोरोना टेस्‍ट, UAE ने बनाया रिकॉर्ड

Khabar 30 din

झीरम घाटी नक्सली हमला: छत्तीसगढ़ सरकार की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट 29 सितंबर को करेगा सुनवाई

Khabar 30 din

अयोध्या में बनने वाली मस्जिद को दिया दान टैक्स फ्री:आयकर विभाग ने 9 महीने बाद 80-G के तहत छूट दी, लेकिन नक्शे की फाइल अटकी; मंदिर ट्रस्ट को पहले से राहत

Khabar 30 din

म्यूकरमाइकोसिस का फ्री इलाज:ब्लैक फंगस का प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों में इलाज फ्री, 3500 रुपए तक का इंजेक्शन 21 दिन तक लगता है

Khabar 30 din

थाने में घुसकर जला दी कांस्टेबल की कार और बाइक, केरोसिन से भीगा बोरा डाल कर लगाई आग

Khabar 30 din